Thursday, November 30, 2017

उनकी कलम से.....

MOTHER

Mother,Oh Mother!!
You are so dear,
Whenever I sad,
You bring cheer,
         
     Whenever I get hurt,
     Your eyes full of tears,
     You are like the light,
     That make my day bright,

Whatever is in my mind,
You are quick to find,
Whenever I am in confusion,
You bring me proper conclusion,

        You are my God,
        You are my heart,
        Whenever I need you,
        You are so near,
        Mother, Oh Mother.

###########################

ऐ हवा तू बता तेरी रजा क्या है
तुम इतना मचलती क्यों हो
तुम इतना इठलाती क्यों हो

मुझे पता है कि ....

तुम मन  की  मौजी  हो
कहीं भी चली जाती हो
और छटा से मन मुग्ध
खुशबुओं को लाती हो
और मन को पुलकित
कर जाती हो

इसलिए प्रफुल्लित मन
को देखकर तुम इतना
इतराती और इठलाती हो

क्या तुम मेरा भी एक काम करोगी
मेरे  महबूब के पास जाओगी
और मेरे प्यार की खुशबुओं
को उन तक पहुँचाओगी??

उनसे कहना कि.....

तुम यहाँ खामोशी से
बातें करते हो
तुमसे दूर बैठी कोई
तुम्हारी तस्वीरों से
बातें करती है!!

##########################

नए नए सपने संजोंने लगी थी
आँखें............
नए नए एहसासों से मँहकने लगा था
मन............

नए नए रंगो में घुलने लगी थी
जिन्दगी..........
उनकी प्यार भरी बातों से मिलने लगी थी खुशी...............                               

मुझे लगा मेरी हर अदा उनकी रजा
को रास आया..........
जिसे मैने बड़ी सिद्दत से शबनम की
तरह सजाया ........

तब मुझमें गुरूर आया कि उन
पर मेरे प्यार का शुरूर तो
छाया.........
                   
लेकिन चन्द लम्हों की दूरी ने
एहसास दिलाया..........
वो दो पल का शुरूर था बस
तेरा झूठा गुरूर था.......

इस प्यार भरी बरसात में
तुम कल भी प्यासी थी.......
और आज भी प्यासी रह
गयी............

जिसे तुम अपना प्यार समझ
बैठी.........
वो तुम्हारा एक भ्रम था जो
तुम्हारे दिल में समाया था.......

वो तो समय का तकाजा था
प्यार का मौसम आया  था बस
प्यार के  नगमें को गुनगुनाया
था........

बस तुम तो सपनों में चूर
थी.........
जबकी प्यार की खुशबुएँ
तुमसे कोसो दूर थी!!........
       P........✍

##########################

कसूर क्या है मेरा,किस बात
के लिए मैं हूँ जिम्मेदार??

सादगी है मेरी सजा,क्या इसके
लिए मैं हूँ जिम्मेदार?

मैने तो सोचा कि सादगी का भी
है अपना एक मजा,

मगर मेरी सादगी ही बन गयी
मेरी ही एक सजा!!

मैने एक दिन उनसे पूछा कि
क्या आप मुझसे करते हैं  प्यार?

उन्होने कहा कि मैं
क्यो करू तुमसे प्यार
तुममे ऐसी क्या है बात?
तुममे ऐसी क्या है क्वॉलिटी
जिससे मैं करू तुमसे प्यार?

परिंदो की तरह भटक रहे हैं
इधर उधर.......
एक मौके की तलाश में

कि एक दिन वो आएँ और कहें कि
जानेमन.....
हमें प्यार है तुमसे और तुम्हारी
सादगी से!!!

#############################

ऐ  घटा  तू  यहीं  क्यों  गरजती  हो......       
मेरे महबूब के यहाँ क्यों नही बरसती हो....
मेरे  दिल पर ही क्यों बिजलियाँ गिराती हो.........
उनके दिल पर भी मेरे प्यार की बिजलियाँ गिराओ तो......

मेरी यादों को उन तक पहुँचाओ तो........
जरा मेरे महबूब के यहाँ भी बरस आओ तो........
माना जब तुम बरसती हो तो चारों तरफ खुशियाँ छा जाती हैं.......

खेतों में हरियाली आ जाती है..........
फिज़ाओं में रंग बिरंगे फूल खिल जाते हैं.....
जीव जन्तु सब प्रमुदित  हो जाते हैं....

आसमान में पंक्षियाँ  घूम घूम कर गानें लगती हैं......
बागों में मोर झूम झूम कर नाचने लगता है........
तरूगन  भी अपनी मस्ती में झूमने लगता है..........

लेकिन जब तुम गरजती हो तो मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती है.........
मेरी साँसें तेज हो जाती हैं...........
और जब तुम बरसती हो  तो भूली
बिसरी सारी यादें जाग जाती हैं.........

उनके दीदार को आँखें बेकरार हो जाती हैं...........
और ये  आँखें भी तुम्हारे साथ बरस जाती हैं.........
इसीलिए ऐ घटा तुम सिर्फ यहीं मत गरजों.............
जरा मेरे महबूब के यहाँ भी बरसों.......

अरे जो पत्थर दिल लेके बैठे हैं......
उनके दिल पर मेरे  प्यार की मीठी
मीठी बूँदें तो बरसाओं..........

उनके दिल पर मेरे प्यार की ठंडी
ठंडी बरसातें करके उनके दिल को
तो पिघलाओ..........

प्यार की भीनी भीनी सौंधी सौंधी
बौछारें तो लाओ..........

उनके तन को तो मँहकाओ........

मेरे प्यार के एहसासों को एक बार
फिर से उनके मन में तो जगाओ......
                
जरा मेरे महबूब के यहाँ भी
बरस आओ.......

पूनम की कलम से साभार.............

Sunday, November 26, 2017

मेरी जान की कलम से....

हर रोज़ एक नया पन्ना जुडता है  जिसमे !!
आप वही मेरे ज़िन्दगी की एक किताब है...

Aao apni laghuta jaane
Apni nirbalta pahchaane
Jaise jag rahta aaya hai usi tarah se rahna hoga!
Saathi, sab kuchh sahna hoga!

Sukun Milta Hai Jab Unse Baat Hoti Hai
Hazar Raaton Mein Wo Ek Raat Hoti Hai
Nigah Uthakar Jab Dekhte Hain Wo Meri Taraf
Mere Liye Wohi Pal Poori Kaaynat Hoti Hai.

Kabhi Hasa Dete Ho,
Kabhi Rula Dete Ho,
Kabhi Kabhi Neend Se Jaga Dete Ho,
Magar Jab Bhi Dil Se Yaad Karte Ho,
Kasam Se Zindagi Ka Ek Pal Badha Dete Ho.

Meri baato me chhal nahi tha...
meri ankho me kal nahi tha....
Unhe dhekh kar ...
mai bhool gai thi apna
bhoot aur bhavishya
Bas mai ji rahi thi...
Apna vartaman ka pal
Bahti nadi ki tarah....
samndar me samarpan....
ki chah liye...

पूनम की कलम से साभार...
(मुझे खुशी है कि अब वो भी लिखने लगी है)
I love you my heart...

Copy and Paste..

जिंदगी ने कर लिया स्वीकार,
अब तो पथ यही है|
अब उभरते ज्वार का आवेग मद्धिम हो चला है,
एक हलका सा धुंधलका था कहीं, कम हो चला है,
यह शिला पिघले न पिघले, रास्ता नम हो चला है,
क्यों करूँ आकाश की मनुहार ,
अब तो पथ यही है |
क्या भरोसा, कांच का घट है, किसी दिन फूट जाए,
एक मामूली कहानी है, अधूरी छूट जाए,
एक समझौता हुआ था रौशनी से, टूट जाए, 
आज हर नक्षत्र है अनुदार,
अब तो पथ यही है| 
यह लड़ाई, जो की अपने आप से मैंने लड़ी है,
यह घुटन, यह यातना, केवल किताबों में पढ़ी है,
यह पहाड़ी पाँव क्या चढ़ते, इरादों ने चढ़ी है,
कल दरीचे ही बनेंगे द्वार,
अब तो पथ यही है |

जीने  का  अंदाज़  बदलने  वाला  हूँ
अपनी ही फ़ित्रत को छलने वाला हूँ
मेरे दुश्मन भी अब  खुश हो जायेंगे
अपने  सारे  राज़  उगलने  वाला  हूँ
दुनिया है भूगोल बदलने में मशरूफ़
मैं  झूठा  इतिहास  बदलने  वाला  हूँ
अपने अपने हिस्से का सूरज रख लो
बाक़ी  को  मैं  आज  निगलने वाला हूँ
जिसने  मेरी चाहत को ही छीन लिया
अपना वो भगवान  बदलने   वाला  हूँ
दरिया! अपनी गहराई पर फ़ख़्र न कर
मैं  तेरी  लहरों  पर  चलने  वाला हूँ
मेरे  भीतर  कोई  आग  दहकती  है
मैं  उसमें  चुपचाप पिघलने वाला हूँ
धीरे  धीरे   सारे   आँसू   पी   डाले
अब मैं दर्दो ग़म को खलने वाला हूँ
औरों की बैसाखी बन कर खूब चला
अपना जिस्म उठाकर चलने वाला हूँ
पिघला हूँ जिसकी चाहत की शिद्दत से
उसके  ही  साँचे   में   ढलने   वाला  हूँ।।

चिराग कैसे मजबूरियाँ बयाँ करे,
हवा जरूरी भी डर भी उसी से है।

एक मुख़्तसर सी वजह है.....मेरा सबसे झुककर के मिलने की,
मिट्टी की बनी हूँ ना....गुरुर जचता नहीं मुझ पर.....

*खुद को पढ़ता हूँ*
*फिर छोड़ देता हूँ*
*रोज़ ज़िन्दगी का एक*
*पन्ना मोड़ देता हूँ...
                           
बताऊँ तुम्हें खाशियत उदास लोगों की ,
कभी गौर करना ये हँसते बहुत हैं ।।

*उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़
हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा
यक़ीं न आए तो इक बात पूछ कर देखो
जो हँस रहा है वो ज़ख़्मों से चूर निकलेगा*

*जमींर हमसे बेचा ना गया,*
*वरना शाम तक अमीर हो जाते..!*

*वाकिफ़ तो हम भी हैं मशहूर होने के तौर तरीकों से,*
*पर ज़िद तो हमें अपने अंदाज से जीने की है।*

कुछ लोग तालियों के तलबगार नहीं होते ;
वो वाह वाह के मोहताज नहीं होते,
जो पैदा हुए हो जमीन ऑसमा एक करने के लिए
वो किसी आधार के मोहताज नहीं होते .
       
ताल्लुकात बढ़ाने हैं तो
कुछ आदतें बुरी भी सीख ले गालिब,
ऐब न हों.
तो लोग महफ़िलों में भी नहीं बुलाते.

*ख्वाहिशें आज भी*
*“खत” लिखती हे मुझे*
*बेखबर इस बात से कि,*
*जिंदगी अब*
*अपने “पते” पर नही रहती...*

आसमा पे ठिकाने
किसी के नही होते,
जो जमीन के नही होते,
वो कही के नही होते।

चेहरे और पोशाक से आंकती है दुनिया..
रूह में उतर कर कब किसी के झांकती है दुनिया।

दौड़ती भागती दुनिया का यही एक फलसफा है.
खूब लुटाते रहे अपनापन, फिर भी लोग खफा है।

मैं इंतिज़ार में हूँ तू कोई सवाल तो कर
यक़ीन रख मैं तुझे ला-जवाब कर दूँगा
मुझे यक़ीन कि महफ़िल की रौशनी हूँ मैं
उसे ये ख़ौफ़ कि महफ़िल ख़राब कर दूँगा

सफ़र जारी रखो
आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो!
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो!!
राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें!
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो

बहुत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती.

रास आ गये हैं कुछ लोगों को हम
कुछ लोगों को ये बात रास नही आई

रस्सी जैसी जिंदगी...तने-तने हालात.....
एक सिरे पे ख़्वाहिशें...दूजे पे औकात....!

काश कोई देखने वाला होता
एक यह ज़िद कि कोई ज़ख्म न देख पाए दिल के मेरे
और एक यह हसरत कि काश कोई देखने वाला होता

उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे ,
वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे ?.
मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा ,
ये मुसाफिर तो कोई और ठिकाना चाहे .
एक बनफूल था इस शहर में वो भी ना रहा,
कोई अब किस के लिए लौट के आना चाहे .
ज़िन्दगी हसरतों के साज़ पे सहमा-सहमा,
वो तराना है जिसे दिल नहीं गाना चाहे .
हम अपने आप से कुछ इस तरह हुए रुखसत,
साँस को छोड़ दिया जिस तरफ जाना चाहे .

ख़याल से भी खूबसूरत था वो , ख़्वाब से ज्यादा नाजुक
गवां दिया हमने ही उसको , देर तक आज़माने में  ..

हमारी खताओं का हिसाब रखते जाना
उनकी अदाओं का हिसाब मुमकिन नहीं

जो लौट आएं तो कुछ कहना नहीं बस देखना उन्हें गौर से
जिन्हें मंज़िलों पे खबर हुई के ये रास्ता कोई और था

भूलने लगे जो विसाल-ए-यार गुज़रे 
लम्हात-ए-याद मगर यादग़ार गुज़रे
कट गई तमाम शब देखते देखते
रात तेरे ख्वाब .. मददगार गुज़रे
फ़क़त एक इश्क़ से घबरा गए आप
ये हादसे संग मेरे .. कई बार गुज़रे
मिलो तुम हरदम महंगाई की तरह
उम्मीद लिए हम सरे-बाज़ार गुज़रे
ज़रुरतमंद हूँ ये ख़बर क्या फ़ैली
बचकर सरेराह दोस्त-यार गुज़रे
मुफ़्त अच्छी है शायरी ‘अमित’ की
कहते हुए दर से मेरे खरीदार गुज़रे

दायरा हर बार बनाता हूं ज़िदगी के लिए 
लकीरें वहीं रहती है, मैं खिसक जाता हुँ।

तज़ुर्बा दोबारा कर लूं
तज़ुर्बा कहता है मोहब्बत से किनारा कर लूँ
और दिल कहता है ये तज़ुर्बा दोबारा कर लूँ

मैं बादशाह था सबको बताता रहता हूँ
तअल्लुका़त की क़ीमत चुकाता रहता हूँ
मैं उसके झूठ पे भी मुस्कुराता रहता हूँ
मगर ग़रीब की बातों को कौन सुनता है
मैं बादशाह था सबको बताता रहता हूँ
ये और बात कि तनहाइयों में रोता हूँ
मगर मैं बच्चों को अपने हँसाता रहता हूँ
तमाम कोशिशें करता हूँ जीत जाने की
मैं दुशमनों को भी घर पे बुलाता रहता हूँ
ये रोज़-रोज़ की *अहबाब से मुलाक़ातें
मैं आप क़ीमते अपनी गिराता रहता हूँ

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ
पहले सेमरस्सिम ना सही फिर भी कभी तो
रस्मो राहे दुनिया ही निभाने के लिए आ
किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम
तू मुझसे खफा है तो जमाने के लिए आ
कुछ  मेरे पिंडारे मुहब्बत का भरम रख
तू भी तो कभी मुझ को मानने के लिए आ
एक उमरा से हूँ लज़्जते गिरिया से भी महरूम
आईराहत-ए-जान मुझको रुलाने के लिए आ
ऐब तक दिले खुश-फहम को हैं तुझ से उम्मीदें
यह आख़िरी शमा भी बुझाने के लिए आ
माना की मुहब्बत का छिपाना है मुहब्बत
चुपके से किसी रोज जताने के लिए आ
जैसे तुझे आते हैं ना आने के बहाने
ऐसे ही किसी रोज ना जाने के लिए आ
रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ

न मुल्क न शहर ना ये घर अपना
दिल से जाता नहीं है ये डर अपना
बर्फ पे नीले पड़े जिस्म उन नौनिहालो के
सांप भी रो पड़ते जिन्हें देते ज़हर अपना
कैस अब होते तो कहाँ बसर करते
सहरा में बसा है किसी का शहर अपना
रक़ाबत अपने बस का रोग न था
रकीब से कैसे बचाता मैं घर अपना

आज नहीं, तो कल निकलेगा
कोशिश कर, हल निकलेगा
आज नही तो, कल निकलेगा।
अर्जुन के तीर सा निशाना साध,
जमीन से भी जल निकलेगा ।
मेहनत कर, पौधो को पानी दे,
बंजर जमीन से भी फल निकलेगा ।
ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे,
फौलाद का भी बल निकलेगा ।
जिन्दा रख, दिल में उम्मीदों को,
समन्दर से भी गंगाजल निकलेगा ।
कोशिशें जारी रख कुछ कर गुजरने की,
जो है आज थमा-थमा सा, वो चल निकलेगा ।

ज़हर देता है मुझे कोई दवा देता है
जो भी मिलता है गम को बढ़ा देता है
क्यूँ सुलगती है मेरे दिल में पुरानी यादें
कौन बुझते हुए शोलों को हवा देता है
हाल हस हस के बुलाता है कभी बाहों में
कभी माज़ी रो रो के सदा देता है

इतना तो किसी ने चाहा भी नहीं होगा
जितना सिर्फ सोचा है मैंने तुम्हें

डाले हुए हैं हम सबने अपने ऐबों पर परदे
और हर शख्स कह रहा है दुनिया खराब है

ख्वाब बोये थे हिज्र काटा है
इस मोहब्बत में बहुत घाटा है।

From
Unknown sources...

Saturday, November 25, 2017

मैं क्या कर रहा हूँ......

कभी कभी मेरे मन मे ख्याल आता है,
दुनिया मे कितने प्रतिभाशाली लोग है,
जो दिन रात मेहनत करते है, सफल होने के लिए,
और फिर मैं खुद की तुलना उनसे करने लगता हूं।

सोचता हूं, "सफल होने के लिए",
"अपना नाम रोशन करने के लिए",
"लोग क्या क्या नही करते!",
"और एक मैं क्या कर रहा हुं"?

क्या कर रहा हूँ?
मैं क्या कर रहा हूँ?
कुछ नही कर रहा,
बस वक़्त काट रहा हूँ।

जिंदगी मेरी एक प्रयोगशाला है,
और मैं उसका अकेला वैज्ञानिक,
मेरी ही थ्योरी है, मैं ही उसका प्रमाण हूँ,
मैं ही उसको सिद्ध करता, मैं ही नकारता हूँ।

जाने क्या मुझे सिद्ध करना है?
जाने क्या और किसे दिखाना है?
एक भटका हुआ मुसाफिर हूँ,
या फिर कोई दिले नादान हूँ?

जितेंद्र

Sunday, November 19, 2017

बेमन का काम

जिंदगी बहुत बोझिल सी कट रही है। मैं वो काम कर रहा हूँ, जो मेरे घर, परिवार के लोग चाहते है कि मैं करू। पर पता नही मैं ये काम करना चाहता हु या नही? मुझे नही मालूम। मैं उस मुकाम पे हूं, जहा पहुंचने का बहुत लोग सपना देखते है। पर मुझे सच मे अपनी जिंदगी से क्या चाहिए, मुझे नही मालूम। मेरे घर परिवार के लोग चाहते थे, मैं ये काम करू, जो की मैं कर रहा हु। मैं क्या करना चाहता हु, ये मैं ही नही जानता। जब मैं सिविल की तैयारी में नही आया था, तब मेरा कुछ सपना था। मैं एक लेखक बनना चाहता था, और जब मैं फार्मेसी पढ़ रहा था, तब एक वैज्ञानिक। मैंने वैज्ञानिक और लेखक बनने के लिए कुछ हाथ पांव भी मारे। पर उम्मीद के मुताबिक सफलता नही मिली। तब उस वक़्त मेरे घर के लोगो को लगता था कि मैं व्यवसाय ही करू, और पारिवारिक व्यवसाय में उनकी सहायता करू। पर व्यवसाय से मुझे चिढ़ थी। इसलिए मेरा मानना था कि मैं कुछ भी कर लूंगा, पर व्यवसाय में नही आऊंगा। फिर 2008 में एक बार जब मैं पुलिस की ज्यादती का शिकार हुआ। मेरी आत्मा अंदर तक हिल गयी थी। वो घटना एक दुःस्वप्न की तरह मेरे साथ कई सालों तक रही, और मुझे परेशान करती रही। आज भी कभी कभी मुझे उसकी दर्द होता है। इसी के साथ, कुछ और घटनाये, जिनमे मुझे एहसास हुआ था कि मेरी कुछ अहमियत नही। जैसे एम फार्म करने के बाद जब मैं घर आया तो उसके बाद कि कुछ घटनाये। कुछ लोगो ने मुझे रिजेक्ट किया, कुछ ने कुछ कॉमेंट किये, मेरे परिवार पर, पिताजी पे कॉमेंट किये गए। कुछ ऐसी ही घटनाये थी, जिनके कारण मुझे एहसास हुआ, की मेरा और मेरे परिवार का कोई वजूद नही है। मुझे मेरे पिताजी की लाचारी का अहसास हो रहा था। उन्हें समाज मे जो यथोचित सम्मान मिलना चाहिए था, वो नही मिल रहा था। शायद यही सब कारण थे कि मैं सिविल में आया। समाज मे उस यथोचित सम्मान की लालसा में मैं इस क्षेत्र में आया।
कोई नौकरी की तलाश में इस क्षेत्र में आता है, कोई अमीर बनने की ख्वाहिश में। कोई अपनी पारिवारिक परंपरा को बरकरार रखने की चाह में, तो कोई सम्मान की चाह में। मैं इस क्षेत्र में सम्मान की तलाश में आया। अब क्यों कि वो लालसा पूरी हो गयी है तो मुझे इस क्षेत्र में रहने का कोई तुक नज़र नही आता। पर मैं चाह कर भी अब इस प्रोफेशन को नही छोड़ सकता।
कभी कभी सोचता हूं कि आईएएस परीक्षा की तैयारी करु, लेकिन अब लगता है कि पढ़ाई का क्रम टूट गया सा है। मैं हर महीने क्रॉनिकल मैगज़ीन, योजना मैगज़ीन खरीद कर इस उम्मीद के साथ रूम पर लाता हु की पढूंगा, तैयारी करूँगा। पर मेरी पढ़ाई अब हो नही रही है। सुबह से शाम तक केवल टाइम पास करता रहता हूं। क्या करूँ? कैसे अपने अंदर इच्छाशक्ति उत्पन्न कर की तैयारी में मन लगे। मैं चाहूं तो पढ़ सकता हूं, पर चाहू कैसे? यही नही समझ मे आ रहा।

Monday, November 6, 2017

दो जिंदगी.....

अब दो जिंदगियां,
जीने की सोचता हूं,
एक अपने लिए,
एक तुम्हारे लिए।

तुम्हारी भावनाये समझूं,
उसका सम्मान करू,
अपनी भावनाएं,
अपने तक रखूं, तुमसे न कहूं।

मैं तो सक्षम हूं,
तुम्हारी भावनाये समझ लूंगा,
पर शायद अभी तुम,
मेरी भावनाये न समझ सको।

कोशिश की थी,
पर मैं गलत था,
तुमसे उम्मीद लगा ली,
कि तुम मुझे समझोगी।

आगे से अब नही कहूंगा,
तुमसे अपने मन की बाते,
अपने विचार, अपनी इच्छाएं,
प्यार वाली गाली, अपनी दुविधाएं।

तुम मेरे हमसफर हो,
ये बात तुम्हे याद हो न हो,
मैं याद रखूंगा आगे से,
हर वक़्त, हर पल, प्रतिक्षण।

जो कहोगी, करूँगा।
जैसे कहोगी, रहूंगा।
तुम मेरे खांचे में मत ढलो,
मैं तुम्हारे खांचे में ढल जाऊंगा।

जी लूंगा एक और जिंदगी,
तुम्हारे लिए, ताकि तुम खुश रहो।
खुद को मैं संभाल लूंगा,
इतना सक्षम हूं मैं, इतना समर्थ हूं मैं।

इस तरह शायद,
मैं तुम्हे पा लूंगा।
पर शायद तुम,
मुझे कभी पा सको।

जितेंद्र

Saturday, October 28, 2017

बुलबुले

विचारो के बुलबुले,
बनते रहते है,
मन के किसी कोने में,
अनजाने ही, अनचाहे ही।

सोचता हूं,
कुछ को कैद कर लूं,
पर हाथ लगाते ही,
बुलबुले फूट जाते है।

जानता हूं इनकी तकदीर,
ये बनते है, फूटने के लिए,
पर मेरी भी ये जिद है इन्हें,
अपना बनाना है एक दिन।

जितेंद्र